Monday, March 4, 2024
Home अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिकों ने लैब में तैयार कर दिया कोरोना वायरस, बवाल मचने के...

वैज्ञानिकों ने लैब में तैयार कर दिया कोरोना वायरस, बवाल मचने के बाद जांच शुरू

[ad_1]

वॉशिंगटन। पिछले ढाई सालों से कोरोना वायरस ने दुनियाभर में काफी कहर बरपाया। हालांकि, टीकाकरण के बाद मामलों में काफी कमी आ गई है, लेकिन डर अब भी कायम है। इस बीच, अमेरिका की बोस्टन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने लैब में कोरोना वायरस का आर्टिफिशियल फॉर्म तैयार कर लिया है, जिसके बाद हंगामा मच गया। स्टडी के सामने आने के बाद अमेरिकी हेल्थ अधिकारियों ने मामले की जांच शुरू कर दी है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ने फाइनेंशियल टाइम्स को बताया कि उसके अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि क्या स्टडी, जिसे आंशिक रूप से अमेरिकी सरकार द्वारा वित्त पोषित किया गया था, को आगे बढ़ने से पहले अतिरिक्त जांच से गुजरना चाहिए था।

स्टडी की फाइंडिंग्स के शुरुआती वर्जन, जिसमें रिसर्चर्स ने कोविड -19 के मूल स्ट्रेन के एक लैब में तैयार किए गए वर्जन को ओमिक्रोन संस्करण से स्पाइक प्रोटीन के साथ जोड़ा, पिछले शुक्रवार को प्रकाशित की गई थी। बता दें कि ओमिक्रोन वैरिएंट कम घातक साबित हुआ है, लेकिन यह काफी तेजी से फैल गया। नए आर्टिफिशियल स्ट्रेन ने 80 प्रतिशत चूहों को मार डाला, जो इसके संपर्क में आए। यूनिवर्सिटी ने बताया कि उसने यह देखने के लिए परीक्षण नहीं किया कि क्या यह मूल स्ट्रेन से अधिक तेजी से फैलता है या नहीं।

एनआईएच ने कहा कि उसने आगे बढ़ने से पहले काम की समीक्षा नहीं की थी, भले ही शोधकर्ता सरकारी पैसों का इस्तेमाल कर रहे थे। एक प्रवक्ता ने कहा, “एनआईएच इस मामले की जांच कर रहा है, ताकि यह तय किया जा सके कि किया गया शोध एनआईएच ग्रांट पॉलिसी स्टेटमेंट के अधीन था या नहीं। उधर, बोस्टन यूनिवर्सिटी ने बताया कि उसे काम करने से पहले एनआईएच को सतर्क करने की आवश्यकता नहीं थी क्योंकि सरकारी पैसा सीधे प्रयोगों को फंड नहीं देता है। हालांकि, इसका इस्तेमाल उपकरणों और तकनीकों के लिए किया जाता था।

‘ऐसे रिसर्च करना जोखिम भरा काम’
विश्वविद्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा, “अनुसंधान की समीक्षा की गई और इंस्टीट्यूशनल बायोसेफ्टी कमेटी द्वारा अप्रूव किया गया, जिसमें वैज्ञानिकों के साथ-साथ स्थानीय समुदाय के सदस्य भी शामिल हैं। बोस्टन पब्लिक हेल्थ कमीशन ने भी शोध को मंजूरी दी।” हालांकि, इस बीच अलोचकों का कहना है कि इस तरह की रिसर्च को करना जोखिम भरा है, क्योंकि इससे इन्फेक्शन फैल सकता है और यह महामारी का रूप ले सकता है। वहीं, एक शख्स ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि हो सकता हो कि चीन के वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से ऐसे ही कोरोना वायरस फैला हो। वहीं, वैज्ञानिकों का कहना है कि वे इस तरह का काम करते रहना चाहते हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि वायरस कैसे व्यवहार करते हैं और क्या वे भविष्य में लोगों के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं।



[ad_2]

Source link

RELATED ARTICLES

ढाका में 7 मंजिला रेस्तरां में लगी आग, 43 की मौत, दर्जनों घायल

ढाका। एक 7 मंजिला इमारत में आग लगने से कम से कम 43 लोगों की मौत हो गई है। स्थानीय मीडिया के अनुसार, आग...

कारमांता शहर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार पुलिस अधिकारियों की मौत

बोगोटा। लैटिन अमेरिकी देश कोलंबिया के एंटिओक्विया प्रांत के कारमांता शहर में एक हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से चार पुलिस अधिकारियों की मौत...

अपने ही परिवार के 12 सदस्यों को गोली मारकर उतारा मौत के घाट

तेहरान। ईरान के केरमान प्रांत में एक व्यक्ति ने अपने परिवार के 12 सदस्यों की गोली मारकर हत्या कर दी। जबकि, तीन अन्य गोली...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

देहरादून से अयोध्या – अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा

6 मार्च को होगा तीनों सेवाओं का शुभारंभ वाराणसी के लिए वाया पंतनगर उड़ान भरेगा विमान मुख्यमंत्री धामी तीनों सेवाओं के लिए लंबे समय थे प्रयासरत देहरादून।...

पिता की दूसरी शादी से नाराज बेटे ने तेजधार हथियार से वार कर उतारा मौत के घाट 

हिसार। हरियाणा के हिसार के बालक गांव के रहने वाले 50 वर्षीय कृष्ण कुमार की उसके बेटे विक्की ने अपने साथी बिंटू के साथ...

लालू यादव के बयान के बाद BJP नेताओं का करारा जवाब, कहा- अबकी बार ‘मोदी का परिवार’…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम मोदी को लेकर विपक्षी नेताओं की बयानबाजी तेज हो गई है। लेकिन बीजेपी के तमाम नेता...

उपद्रवियों से होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई

-क्लेम ट्रिब्यूनल करेगा नुकसान का आंकलन, राज्य सरकार ने कानून बनाने को प्रदान की मंजूरी देहरादून। उपद्रव फैलाने वालों पर शिकंजा कसने की दिशा में...

लोकसभा चुनाव आचार संहिता लगने से पूर्व धामी कैबिनेट की बैठक में हुए अहम फैसले

देखें, कैबिनेट के निर्णय सार्वजनिक सम्पत्ति के नुकसान की क्षतिपूर्ति के लिए क्लेम ट्रिब्यूनल के गठन पर लगी मुहर दशमेतर छात्रवृत्ति योजना में मिलने वाली छात्रवृत्ति...

गूगल ने हटाए गए सभी भारतीय एप को प्ले स्टोर पर किया बहाल

नई दिल्ली। गूगल ने भारी आलोचना के बाद प्ले स्टोर से हटाए गए सभी एप को वापस बहाल कर दिया है। सूत्रों ने पुष्टि...

अनुसूचित जाति के डेस्कॉलर एवं हॉस्टलर छात्रों के लिए नयी छात्रवृत्ति दरें तय

देखें, अनुसूचित जाति दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना के तहत नवीन छात्रवृत्ति की दर निर्धारित देहरादून। समाज कल्याण विभाग के अन्तर्गत भारत सरकार द्वारा संचालित अनुसूचित जाति...

हड्डियों में भर दे जान, आंखों के लिए वरदान से कम नहीं हरी मिर्च, जानें फायदे

स्पाइसी खाना हम चटकारे मार-मारकर खाते हैं. इन्हें स्वादिष्ट और तीखा बनाने का काम हरी मिर्च का होता है. हरी मिर्च भारत में बड़े...

एक बार फिर चारों ओर से बर्फ में ढकी औली और चकराता की वादियां 

चमोली। उत्तराखंड में मौसम ने फिर करवट बदली है। चमोली जनपद में लगातार तीसरे दिन भी मूसलाधार बारिश से ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जमकर...

ईडी के सामने पेश होंगे अरविंद केजरीवाल, मांगी नई तारीख

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शराब घोटाला मामले में पूछताछ के लिए तैयार हो गए हैं। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय से 12 मार्च के बाद...