Tuesday, February 27, 2024
Home ब्लॉग मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव ने एक अति सामान्य पृष्ठभूमि से उठ कर देश के सर्वोच्च नेताओं में अपनी जगह बनाई। एक अवसर ऐसा था, जब अगर (जैसाकि कहा जाता है) लालू प्रसाद यादव ने कड़ा एतराज ना जताया होता, तो वे सचमुच भारत के प्रधानमंत्री बन सकते थे। उत्तर प्रदेश की राजनीति में डेढ़ दशक तक वे एक बड़ा पहलू बने रहे। यह इसे ऐसे कहा जा सकता है कि उप्र की राजनीति की वे एक धुरी बने रहे।

ये तमाम उपलब्धियां ऐसी हैं, जिनकी वजह से आधुनिक भारत के राजनीतिक इतिहास में उनका एक खास स्थान रहेगा। ये दीगर बात है कि जब वे दुनिया से विदा हुए, तब उनकी राजनीति संभावनाविहीन हो चुकी थी। ये संभावनाएं इस आशा में जगी थीं कि सामाजिक न्याय की राजनीति भारत के आर्थिक-सामाजिक और सियासी ढांचे में बड़े बदलाव का जनक बनेगी। मगर मुलायम सिंह और उनके समान विचारों वाले नेताओं के जीवनकाल में ही इस सोच की प्रति-राजनीति देश की सर्व प्रमुख धारा बनते हुए सत्ता और विचार तंत्र पर अपना वर्चस्व जमा लिया।

आज हालात ऐसे हैं, जिनमें सामाजिक न्याय की सियासत जिन मकसदों के लिए खड़ी नजर आती थी, आज की राजनीति उसके बिल्कुल विपरीत दिशा में आगे बढ़ रही है। अब यह इतिहास में एक पड़ताल का विषय रहेगा कि हालात को यहां तक लाने में सामाजिक न्याय की राजनीति की क्या भूमिका रही? आखिर उसने लोगों की जगी उम्मीदों को इस हद तक क्यों तोड़ दिया कि कभी उनका जनाधार माने जाने वाले जन समुदाय हिंदुत्व की राजनीति के ध्वजवाहक हो गए? क्या इसके लिए जिम्मेदार मुलायम सिंह जैसे नेताओं में दूरदृष्टि और बड़े उद्देश्य की भावना का अभाव था, जिसकी वजह एक बड़ी संभावनाओं वाली सियासत परिवारवाद और अवसर बाद का पर्याय मानी जाने लगी? आज सामाजिक न्याय की विचारधारा अलग-अलग जातियों की पहचान जताने की प्रवृत्तियों का शिकार होकर जख्मी अवस्था में नजर आती है।

अफसोसनाक यह है कि इस संकट की स्थिति में भी 1990 के दशक की सबसे प्रभावशाली राजनीति के वारिस कोई नई सोच- नई दृष्टि जन समुदायों के सामने में पेश करने में अक्षम बने हुए हैँ। क्यों? संभवत: इन प्रश्नों का माकूल जवाब ढूंढना ही मुलायम सिंह यादव के प्रति सबसे उचित श्रद्धांजलि होगी।

RELATED ARTICLES

विपक्ष के गढ़ में क्या खिलेगा कमल?

हरिशंकर व्यास यह भी अहम सवाल है कि क्या भाजपा किसी ऐसे राज्य में चुनाव जीत पाएगी, जहां इससे पहले वह कभी नहीं जीती है?...

लंबी अस्थिरता की ओर

पाकिस्तान की सेना ने ऐसा ड्रामा रचा है, जिसमें मंच पर मौजूद पात्र उसके लिखे संवाद ही बोलें। यह खेल पाकिस्तानी आवाम के साथ-साथ...

पेपर लीक पर सख्त कानून

अजय दीक्षित पिछले दिनों लोकसभा में डॉ. जितेन्द्र ने परीक्षाओं में पेपर लीक पर एक सख्त कानून बनाने का विधेयक पेश किया था । वह...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

भिक्षावृत्ति के खिलाफ आपरेशन मुक्ति अभियान एक मार्च से होगा शुरू

भिक्षावृति में लगे बच्चों को शिक्षा मुहैया कराई जाएगी भिक्षावृत्ति की सूचना डायल 112 पर दें देहरादून। बच्चों से करायी जा रही भिक्षावृत्ति, बच्चों के साथ...

फिल्म योद्धा का गाना जिंदगी तेरे नाम हुआ रिलीज, सिद्धार्थ-राशि की केमिस्ट्री ने लूटी महफिल

करण जौहर की एक्शन थ्रिलर योद्धा सिनेमाघरों में दस्तक देने वाली है। फिल्म के टीजर में सिद्धार्थ मल्होत्रा का एक्शन तो आपने देखा होगा,...

किमाड़ी गुर्जर बस्ती में पीड़ित परिवारजनों से मुलाकात कर उन्हें ढांढस बंधाते कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी

देहरादून। मसूरी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत लोगों को निवाला बनाने वाल तथा घायल करने वाले गुलदार को कृषि मंत्री गणेश जोशी ने मसूरी विधानसभा...

कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों में भाजपा की सेंधमारी जारी

राजनीति- दो पूर्व ज़िला पंचायत अध्यक्ष व ओबीसी आयोग के पूर्व अध्यक्ष भाजपा में शामिल लोकसभा चुनाव की बेला में भाजपा के कुनबे में हो...

देश के सबसे सख्त नकल विरोधी कानून के बाद अब दंगाइयों के खिलाफ कठोर कानून लाएंगे सीएम धामी

विभिन्न राज्यों के कानून का अध्ययन करने के बाद धामी सरकार ने बनाया दंगाइयों के विरुद्ध देश का सबसे कड़ा कानून उत्तराखण्ड का सख़्त धर्मांतरण...

प्रदेश के 46 महाविद्यालयों में प्रयोगशालाओं को मिलेंगे नये उपकरण

पांच करोड़ की धनराशि स्वीकृत महाविद्यालयों को नैक की मान्यता लेने में रहेगी सहूलियत देहरादून। प्रदेश के 46 राजकीय महाविद्यालयों में संचालित विभिन्न विषयों की प्रयोगशालाएं...

विपक्ष के गढ़ में क्या खिलेगा कमल?

हरिशंकर व्यास यह भी अहम सवाल है कि क्या भाजपा किसी ऐसे राज्य में चुनाव जीत पाएगी, जहां इससे पहले वह कभी नहीं जीती है?...

उर्जा कप 2024- यूपी इरिगेशन बनी चैम्पियन

देहरादून। आर्यन क्षेत्री क्रिकेट ग्राउण्ड चल रहे पंचम ऊर्जा कप मे आज फाइनल मुकाबला हरिद्वार पुलिस व यूपी इरिगेशन के बीच हुआ। टोस जीतकर...

वन्य जीवों के बढ़ रहे हमलों के बाद वन अधिकारियों के विदेश दौरे पर लगी रोक

मानव-वन्य जीव संघर्ष मामले पर सीएम धामी ने अधिकारियों को लगाई फटकार देहरादून। प्रदेश में गुलदार समेत अन्य जंगली जानवरों के बढ़ रहे हमलों के बीच...

कांग्रेस ने बजट सत्र गैरसैंण में आहूत नहीं होने पर किया उपवास

गांधी प्रतिमा के सामने पूर्व सीएम हरीश रावत व कांग्रेसियों ने रखा मौन उपवास गैरसैंण में बजट सत्र आयोजित न कर भाजपा ने शहीदों व...