Monday, March 4, 2024
Home उत्तराखंड जानिए उत्तराखंड के कौन से इलाके में दीपावली के एक माह बाद...

जानिए उत्तराखंड के कौन से इलाके में दीपावली के एक माह बाद मनाई जाती है दीवाली

[ad_1]

देहरादून। पूरे देश में 24 अक्टूबर को दीपावली पर्व की धूम रहेगी, लेकिन उत्‍तराखंड के जौनसार में देश की दीपावली के एक माह बाद पांच दिवसीय बूढ़ी दीवाली मनाने का रिवाज है। हालांकि बावर व जौनसार की कुछ खतों में नई दीपावली मनाने का चलन शुरू हो गया है, लेकिन यहां पर बूढ़ी दीवाली को मनाने का तरीका अनोखा है।

भीमल की लकड़ी से बनाई जाती है मशाल

बूढ़ी दीवाली में भीमल की लकड़ी से मशाल बनाई जाती है। जिसे जलाकर नृत्य किया जाता है।

स्थानीय भाषा में इसे होला कहा जाता है।

यहां खासियत यह है कि जौनसार बावर में बूढ़ी दीपावली में पर्यावरण को प्रदूषित नहीं किया जाता।

ईको फ्रेंडली दीपावली मनाने का रिवाज पौराणिक काल से है।

यहां पर पटाखे, आतिशबाजी का चलन नहीं है। इसीलिए मशालों से गांव को रोशन किया जाता है।

रात को सारे पुरुष होला को जलाकर ढोल-दमाऊ रणसिंगे की थाप पर पंचायती आंगन में लोक नृत्य कर खुशियां मनाते हैं।

दीपावली के गीत गाते व बजाते हुए वापस अपने अपने घरों को लौट जाते हैं।

दिवाली की दूसरी रात अमावस्या की रात होती है, जिसे रतजगा कहा जाता है।

गांव के पंचायती आंगन में अलाव जलाकर नाच गाने का आनंद लिया जाता है।

भिरुड़ी के गीत गाते हैं युवक व युवतियां

भिरुड़ी में हर घर से लोग आंगन में आकर अखरोट का प्रसाद पाते हैं। युवक व युवतियां भिरुड़ी के गीत गाते हैं। विशेष पकवान चिवड़ा, मीठी रोटी बनाई जाती है। एक दूसरे के घर दावतों का दौर चलता है। दिवाली के समापन के दिन कहीं हाथी तो कहीं पर हिरण नचाया जाता है। जौनसार के पूर्व दर्जाधारी टीकाराम शाह, रंगकर्मी नंदलाल भारती, संतराम आदि का कहना है कि एक माह बाद दीपावली मनाने के पीछे तर्क है कि यहां के निवासियों को राम के वनवास से घर लौटने का पता एक माह बाद चला था। स्थानीय लोग अपनी संस्कृतिक गणवेष में सजकर रासों, तांदी नृत्य मनाते हैं।



[ad_2]

Source link

RELATED ARTICLES

देश के सबसे कठोर “दंगारोधी” कनून पर धामी सरकार की मुहर

-अब दंगाईयों से होगी निजी, सरकारी संपत्ति क्षति की पूरी वसूली -क्षति ग्रस्त संपत्ति की भरपाई के अलावा 8 लाख तक का जुर्माना और दंगा...

देहरादून से अयोध्या – अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा

6 मार्च को होगा तीनों सेवाओं का शुभारंभ वाराणसी के लिए वाया पंतनगर उड़ान भरेगा विमान मुख्यमंत्री धामी तीनों सेवाओं के लिए लंबे समय थे प्रयासरत देहरादून।...

उपद्रवियों से होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई

-क्लेम ट्रिब्यूनल करेगा नुकसान का आंकलन, राज्य सरकार ने कानून बनाने को प्रदान की मंजूरी देहरादून। उपद्रव फैलाने वालों पर शिकंजा कसने की दिशा में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

देश के सबसे कठोर “दंगारोधी” कनून पर धामी सरकार की मुहर

-अब दंगाईयों से होगी निजी, सरकारी संपत्ति क्षति की पूरी वसूली -क्षति ग्रस्त संपत्ति की भरपाई के अलावा 8 लाख तक का जुर्माना और दंगा...

देहरादून से अयोध्या – अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा

6 मार्च को होगा तीनों सेवाओं का शुभारंभ वाराणसी के लिए वाया पंतनगर उड़ान भरेगा विमान मुख्यमंत्री धामी तीनों सेवाओं के लिए लंबे समय थे प्रयासरत देहरादून।...

पिता की दूसरी शादी से नाराज बेटे ने तेजधार हथियार से वार कर उतारा मौत के घाट 

हिसार। हरियाणा के हिसार के बालक गांव के रहने वाले 50 वर्षीय कृष्ण कुमार की उसके बेटे विक्की ने अपने साथी बिंटू के साथ...

लालू यादव के बयान के बाद BJP नेताओं का करारा जवाब, कहा- अबकी बार ‘मोदी का परिवार’…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम मोदी को लेकर विपक्षी नेताओं की बयानबाजी तेज हो गई है। लेकिन बीजेपी के तमाम नेता...

उपद्रवियों से होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई

-क्लेम ट्रिब्यूनल करेगा नुकसान का आंकलन, राज्य सरकार ने कानून बनाने को प्रदान की मंजूरी देहरादून। उपद्रव फैलाने वालों पर शिकंजा कसने की दिशा में...

लोकसभा चुनाव आचार संहिता लगने से पूर्व धामी कैबिनेट की बैठक में हुए अहम फैसले

देखें, कैबिनेट के निर्णय सार्वजनिक सम्पत्ति के नुकसान की क्षतिपूर्ति के लिए क्लेम ट्रिब्यूनल के गठन पर लगी मुहर दशमेतर छात्रवृत्ति योजना में मिलने वाली छात्रवृत्ति...

गूगल ने हटाए गए सभी भारतीय एप को प्ले स्टोर पर किया बहाल

नई दिल्ली। गूगल ने भारी आलोचना के बाद प्ले स्टोर से हटाए गए सभी एप को वापस बहाल कर दिया है। सूत्रों ने पुष्टि...

अनुसूचित जाति के डेस्कॉलर एवं हॉस्टलर छात्रों के लिए नयी छात्रवृत्ति दरें तय

देखें, अनुसूचित जाति दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना के तहत नवीन छात्रवृत्ति की दर निर्धारित देहरादून। समाज कल्याण विभाग के अन्तर्गत भारत सरकार द्वारा संचालित अनुसूचित जाति...

हड्डियों में भर दे जान, आंखों के लिए वरदान से कम नहीं हरी मिर्च, जानें फायदे

स्पाइसी खाना हम चटकारे मार-मारकर खाते हैं. इन्हें स्वादिष्ट और तीखा बनाने का काम हरी मिर्च का होता है. हरी मिर्च भारत में बड़े...

एक बार फिर चारों ओर से बर्फ में ढकी औली और चकराता की वादियां 

चमोली। उत्तराखंड में मौसम ने फिर करवट बदली है। चमोली जनपद में लगातार तीसरे दिन भी मूसलाधार बारिश से ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जमकर...