Friday, February 23, 2024
Home खेल राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत ने जीते 61 पदक, जानिए किस खेल...

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत ने जीते 61 पदक, जानिए किस खेल में खिलाड़ियों ने जीते कौन-कौन से पदक

[ad_1]

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत ने कुल 61 पदक जीते हैं। इसमें 22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक शामिल हैं। इससे पहले 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने कुल 66 पदक जीते थे। इनमें से 16 पदक शूटिंग में आए थे। इस बार शूटिंग को शामिल नहीं किया गया था, लेकिन भारत के सिर्फ पांच पदक कम हुए हैं। स्वर्ण पदक की संख्या में भी सिर्फ चार पदक की कमी हुई है, जबकि 2018 में शूटिंग से सात स्वर्ण पदक मिले थे। इस बार भारत ने लॉन बॉल, एथलेटिक्स जैसे खेलों में बेहतर प्रदर्शन किया और पैरा एथलीटों ने भी कमाल किया। इसी वजह से भारतीय दल एक बार फिर अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब रहा। 

पदक तालिका में भारत चौथे स्थान पर रहा। ऑस्ट्रेलिया ने पहला स्थान हासिल किया। इंग्लैंड दूसरे और कनाडा तीसरे स्थान पर रहा। न्यूजीलैंड ने पांचवां स्थान हासिल किया। यहां, हम बता रहे हैं कि किस खेल में भारत ने कैसा प्रदर्शन किया।

कुश्ति में जीते 12 पदक

कुश्ती हमेशा से ही भारत के लिए सबसे मजबूत खेल रहा है। ओलंपिक से लेकर कॉमनवेल्थ और एशियाई खेलों तक हर बड़ी प्रतियोगिता में पदक लाने के मामले में हमारे पहलवान सबसे आगे रहते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ। भारत के 12 पहलवानों ने इस प्रतियोगिता में भाग लिया और सभी ने पदक जीता। पिछली बार भी भारत को कुश्ती में 12 पदक मिले थे। हालांकि, स्वर्ण पदकों की संख्या एक ज्यादा रही। भारत ने इस बार कुश्ती में छह स्वर्ण, एक रजत और पांच कांस्य पदक जीते। 

वेटलिफ्टिंग में 10 पदक से जीत

भारत को वेटलिफ्टिंग में भी हमेशा से ही भरपूर पदक मिलते रहे हैं और इस बार भी ऐसा ही हुआ। भारत को शुरुआती सभी पदक इसी खेल में आए। इस बार भारत ने वेटलिफ्टिंग में तीन स्वर्ण, तीन रजत और चार कांस्य पदक जीते। 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में भारत को वेटलिफ्टिंग में नौ पदक मिले थे, लेकिन स्वर्ण पदक की संख्या पांच थी, जो इस बार घटकर तीन रह गई। इसके बावजूद भारत के खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया और इस खेल में सबसे ज्यादा 10 पदक जीते।

एथलेटिक्स में इस बार भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया। भारत ने कुल आठ पदक जीते, जिनमें एक स्वर्ण, चार रजत और तीन कांस्य पदक शामिल थे। पिछली बार भारत को एथलेटिक्स में कुल तीन पदक मिले थे। इस खेल में कमाल करने की वजह से ही भारत पहुत हद तक शूटिंग में कम हुए पदकों की भारपाई करने में कामयाब रहा। खासकर ट्रिपल जंप में भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया।

बॉक्सिंग में भी इस बार भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया। भारत ने सात पदक जीते। 2018 में भारत को बॉक्सिंग में नौ पदक मिले थे। हालांकि, स्वर्ण पदकों की संख्या में कोई बदलाव नहीं हुआ, लेकिन रजत पदकों की संख्या दो कम हो गई। इस बार भारत ने तीन स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य पदक जीते। 2018 में भारत ने तीन रजत, तीन कांस्य और तीन ही स्वर्ण पदक जीते थे। 

भारत ने इस बार टेबल टेनिस में भी सात पदक जीते। इसमें चार स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक शामिल थे। वहीं, 2018 में भारत को इस खेल में आठ पदक मिले थे। इसमें तीन स्वर्ण, दो रजत और तीन कांस्य पदक शामिल थे। इस लिहाज से कुल पदकों की संख्या में एक की कमी आई, लेकिन स्वर्ण पदक की संख्या एक बढ़ गई। मनिका बत्रा इस बार कोई पदक नहीं जीत पाईं। भारत के लिए सबसे ज्यादा निराशा की बात यही रही। हालांकि, युवा श्रीजा अकुला ने उम्मीदें जगाई हैं। 

बैडमिंटन में इस बार भारत ने कुल छह पदक जीते। इसमें तीन स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक शामिल थे। भारत ने तीनों स्वर्ण कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के आखिरी दिन जीते। पीवी सिंधु और लक्ष्य सेन के अलावा सात्विक-चिराग की जोड़ी ने भी स्वर्ण पदक अपने नाम किया। वहीं, पिछली बार भी भारत को इस खेल में छह पदक मिले थे। इसमें दो स्वर्ण, तीन रजत और एक कांस्य पदक शामिल था। इस बार स्वर्ण पदकों की संख्या बढ़ गई है। यह भारत के लिए अच्छी खबर है। 

भारत ने इस बार जूडो में कुल तीन पदक जीते। इसमें दो रजत और एक कांस्य पदक शामिल है। खास बात यह है कि पिछली बार भारत को इस खेल में कोई पदक नहीं मिला था। ऐसे में इन तीन पदकों की अहमियत बहुत ज्यादा है। शूटिंग के न होने की वजह से कम हुए पदकों की भरपाई करने में जूडो का अहम योगदान है। 

भारत ने इस बार लॉन बॉल में दो पदक जीते। इस खेल के इतिहास में पहली बार भारत को पदक मिले। इससे पहले भारत कभी भी लॉन बॉल में पदक नहीं जीत पाया था। हालांकि, इस बार पहले महिला टीम ने कमाल किया और स्वर्ण पदक अपने नाम किया। वहीं, बाद में पुरुष टीम ने भी रजत पदक जीता। इस खेल में भारत का पदक जीतना सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू है। अब आगे भी भारतीय खिलाड़ियों से इस खेल में पदक की उम्मीद होगी। 

भारत को इस बार हॉकी में दो पदक मिले। पुरुष और महिला दोनों टीमों ने पदक जीते। पहले महिला टीम ने कांस्य पदक हासिल किया। इसके बाद पुरुष टीम ने रजत पदक जीता। हालांकि, दोनों टीमों को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। भारत को अपने राष्ट्रीय खेल में स्वर्ण पदक जीतने के लिए ऑस्ट्रेलिया से पार पाना होगा। 2018 में भारत को हॉकी में कोई पदक नहीं मिला था। इस लिहाज से इस बार का प्रदर्शन बेहतर है। 

इस बार भारत ने पैरा पावरलिफ्टिंग में भी एक पदक जीता। सुधीर ने कमाल करते हुए देश को पदक दिलाया। पिछली बार पैरा खेलों में भारत को कुल एक पदक मिला था। हालांकि, यह कांस्य पदक था। इस बार स्वर्ण जीतना भारत के लिए सुखद रहा। 

कॉमनवेल्थ खेलों में पहली बार महिला क्रिकेट को शामिल किया गया था और भारत ने रजत पदक जीता। हालांकि, फाइनल में टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा, लेकिन जिस तरह से भारतीय टीम खेली वह शानदार था। अब आने वाले समय में भारतीय टीम से स्वर्ण की उम्मीद होगी। 



[ad_2]

Source link

RELATED ARTICLES

भारत ने तीसरे टेस्ट में इंग्लैंड को 434 रन से हराया

नई दिल्ली।  भारत ने तीसरे टेस्ट में इंग्लैंड को 434 रन से हरा दिया है। राजकोट में खेले गए इस मुकाबले में इंग्लैंड को...

इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी तीन टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम का ऐलान, जानें कौन हुआ बाहर

मुंबई। शनिवार, 10 फरवरी को बीसीसीआई ने इंग्लैंड के भारत दौरे पर खेले जाने वाले अंतिम तीन टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम का...

भारत ने इंग्लैंड को दूसरे टेस्ट मैच में 106 रन से हराया 

नयी दिल्ली। भारत ने इंग्लैंड को विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे टेस्ट में 106 रन से हरा दिया है। इसी के साथ टीम इंडिया...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

महाराज ने दिये महाभारत ट्रेल को विकसित करने के निर्देश

योग महोत्सव का आयोजन 15 से 21 मार्च तक महासू देवता के मास्टर प्लान, कण्वाश्रम एवं योग महोत्सव 2024 की तैयारियों की समीक्षा देहरादून। योग महोत्सव...

सीमान्त मुनस्यारी पिथौरागढ़ व चम्पावत के लिए उड़ान भरेंगे हेलीकॉप्टर

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने हल्द्वानी से पहाड़ी इलाकों के लिए शुरू की हेली सेवा देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास,...

रोज एप्पल जूस पिएंगे तो क्या होगा, सेब का जूस पीते वक्त बरतें ये सावधानियां

नाश्ते में सेब खाने के बजाय इसका जूस पी सकते हैं।  जूस शरीर के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होता है. इसे पीने से चेहरे...

चारधाम यात्रा की तैयारियों में जुटा स्वास्थ्य महकमा

बदरीनाथ-केदारनाथ में मिलेगी बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उत्तराखण्ड के कई अस्पताल होंगे उच्चीकृत देहरादून। चारधाम यात्रा के दौरान इस बार तीर्थयात्रियों को बदरीनाथ-केदारनाथ के अस्पतालों में बेहतर...

उत्तराखंड की बेटी ने राष्ट्रीय साहित्यिक मंच पर किया नाम रोशन

बागेश्वर की प्रभा ललित सिंह को बेस्ट फिक्शन हिन्दी एक्सीलेनट नॉवल ऑफ द ईयर-2024 सम्मान देहरादून। उत्तराखंड की बेटी ने राष्ट्रीय साहित्यिक मंच पर उत्तराखंड...

विवाह बंधन में बंधे रकुल प्रीत सिंह और जैकी भगनानी, सिख रीति रिवाजों से हुआ आनंद कारज

पणजी। लंबे समय से एक-दूसरे को डेट कर रहे रकुलप्रीत सिंह और जैकी भगनानी विवाह बंधन में बंध गए है। दोनों का सिख रीति...

बद्रीनाथ धाम ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर, रुक-रुककर बर्फबारी का दौर जारी

चमोली। उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में लगातार मौसम बिगड़ा हुआ है। बदरीनाथ धाम में चार दिनों से लगातार बर्फबारी हो रही है। जिससे...

ब्लॉक प्रमुख ने कांग्रेस छोड़ी, भाजपा का दामन थामा

ब्लॉक प्रमुख रजनी रावत का प्रदेश अध्यक्ष व रास सांसद महेंद्र भट्ट ने किया स्वागत देहरादून। पौड़ी के पाबो ब्लॉक प्रमुख श्रीमती रजनी रावत ने...

सभी बाधाएं दूर, शीघ्र शुरू होगा जमरानी बांध का निर्माण- महाराज

जमरानी बांध परियोजना को सैद्धांतिक सहमति देने पर महाराज ने जताया आभार देहरादून। जमरानी बांध के लिए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय भारत सरकार...

हॉकी, स्केटिंग रिंग एवं चिल्डर्न पार्क के निर्माण के साथ खेल अवस्थापना सुविधा हेतु किए जा रहे कार्य – मुख्य कार्यकारी अधिकारी 

जिलाधिकारी/मुख्य कार्यकारी अधिकारी सोनिका ने शहर में संचालित हो रहे स्मार्ट सिटी परियोजना लि0 के कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया जिलाधिकारी ने सहारनपुर रोड से...