Monday, March 4, 2024
Home राष्ट्रीय जंतर मंतर पर मुर्दो की चौपाल बोले

जंतर मंतर पर मुर्दो की चौपाल बोले

[ad_1]

अर्जुन सिंह

दिल्ली। रविवार को जंतर मंतर पर जिंदा मृत घोषित किए गए व्यक्तियों को जीवित घोषित करने के लिए और उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए जंतर मंतर पर लगी हरपाल की चौपाल पर कागज में मुर्दा घोषित कर दिए गए व्यक्ति, देश के अन्य राज्यों से जिन्दा होने की फरियाद लेकर शामिल हुए और ऐसा पहली बार हुआ जब धरने में बैठे मुर्दो जीवित होने के लिए उपवास किया, अमूमन व्यक्ति जीवित होने के लिए खाते है।

धरने में देश के प्रधानमंत्री का निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी से जिन्दा मुर्दा संतोष कुमार भी पहुंचे। वर्ष 2000 से लेकर 2010 तक मुंबई के मशहूर कलाकार नाना पाटेकर का रसोईया रहा चुके है। उनका कहना है कि इसी दौरान 2003 में उनके गांव के व्यक्तियों ने उसे रेल हादसे में मृत दिखाकर 12 एकड़ जमीन कब्जा कर ली। यह जानकारी उनको 2003 में मिली और वह 2004 से ही अपने को जीवित घोषित करने के लिए और अपनी जमीन वापस पाने के लिए प्रयासरत है। इसमें यह बताना भी बहुत महत्वपूर्ण है कि वह 2011 से लेकर 2019 तक लगातार जंतर मंतर पर मैं जिन्दा हूँ की तख्ती लगाकर प्रदर्शन करते रहे है। लेकिन मीडिया में छाने की बाद भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। उन्हें अभी तक न्याय नहीं मिला है।

ऐसी ही कहानी लिए मध्य प्रदेश के मुलताई जिले से आये विजय की भी है। उनके पिता को भी 2004 वर्ष में मृत घोषित कर दिया गया था। जब उन्होंने इनपर विरोध दर्ज किया तो उनकी माँ के खिलाफ ही एफ आई आर दर्ज करा दी गई। विजय का कहना है कि ऐसा संपत्ति को हड़पने के उदेश्य से किया गया है। इसमें स्थानीय पुलिस और राजस्व विभाग की मिली भगत है। उनके पिता अभी भी मतदान की सूचि में शामिल है। बावजूत इसके 18 वर्ष बीत गए लेकिन अभी तक उनके पिता को जिंदा घोषित नहीं हुए हैं।

इसी प्रकार से उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के ओमप्रकाश भी चौपाल पहुंचे। जिसमे उनके पत्नी की माँ को भी वर्ष 2005 में मृत घोषित किया गया था। इसके लिए वह लगभग 20 वर्षों से मुकदमा लड़ रहे हैं। उनका कहना था कि उच्च न्यायालय के आदेश, जिला न्यायालय जल्द कार्रवाई करके करने के आदेश देने बावजूद तहसीलदार द्वारा जिला न्यायालय में कागजात जमा नहीं कराने के कारण से निर्णय नहीं हो पा रहा है।

वही दिल्ली नजफगढ़ की शांति देवी को भी उसका हक नहीं मिल पा रहा है यहां पर यह बताना भी आवश्यक है कि उपरोक्त मृत घोषित व्यक्तियों के पास राशन कार्ड, पहचान पत्र, प्रमाण पत्र आदि अधिकतरों के पास मौजूद है।

चौपाल के संयोजक हरपाल सिंह राणा ने बताया कि ऐसे दस परिवारों को बुलाया गया था। लेकिन उनका टिकट कंफर्म नहीं होने के कारण से वह नहीं पहुंच सके। उनका कहना है कि ऐसी 35 परिवारों की सूची उनके पास है और उनसे संपर्क भी किया गया था। लेकिन इनमें से अधिकतर व्यक्ति वृद्ध है। जोकि आने में भी असमर्थ हैं। ऐसे व्यक्तियों को कागजों में मृत घोषित करके उनकी संपत्ति को सगे संबंधियों ने हड़प लिया है। तो देश के अधिकतर पिछड़े राज्यों में अनेकों जीवित व्यक्ति मृत घोषित है। इन व्यक्तियों के सामने अनेकों प्रकार की कठिनाई खड़ी हो जाती हैं। उनकी सभी प्रकार की सरकारी सहायता रोक दी जाती है। उनको सभी प्रकार से संपत्ति,बैंक आदि से बेदखल करने के कारण से उनको अनेकों प्रकार से आर्थिक सहित अनेकों कठिनाइयों का सामना भी करना पड़ता है। आपको बता दें इस सम्बन्ध में हरपाल राणा राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमत्री से लेकर सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर यह उठाते रहे है। लेकिन केंद्र और सरकारों से मिले जवाबो में मायूसी ही हाथ लगी।



[ad_2]

Source link

RELATED ARTICLES

लालू यादव के बयान के बाद BJP नेताओं का करारा जवाब, कहा- अबकी बार ‘मोदी का परिवार’…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम मोदी को लेकर विपक्षी नेताओं की बयानबाजी तेज हो गई है। लेकिन बीजेपी के तमाम नेता...

ईडी के सामने पेश होंगे अरविंद केजरीवाल, मांगी नई तारीख

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शराब घोटाला मामले में पूछताछ के लिए तैयार हो गए हैं। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय से 12 मार्च के बाद...

राहुल गांधी ने सरकार पर मध्यम वर्ग को रेलवे की प्राथमिकता से बाहर करने का लगाया आरोप

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को रेलवे की नीतियों को लेकर केंद्र सरकार की आलोचना की। राहुल गांधी ने सरकार पर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

देश के सबसे कठोर “दंगारोधी” कनून पर धामी सरकार की मुहर

-अब दंगाईयों से होगी निजी, सरकारी संपत्ति क्षति की पूरी वसूली -क्षति ग्रस्त संपत्ति की भरपाई के अलावा 8 लाख तक का जुर्माना और दंगा...

देहरादून से अयोध्या – अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा

6 मार्च को होगा तीनों सेवाओं का शुभारंभ वाराणसी के लिए वाया पंतनगर उड़ान भरेगा विमान मुख्यमंत्री धामी तीनों सेवाओं के लिए लंबे समय थे प्रयासरत देहरादून।...

पिता की दूसरी शादी से नाराज बेटे ने तेजधार हथियार से वार कर उतारा मौत के घाट 

हिसार। हरियाणा के हिसार के बालक गांव के रहने वाले 50 वर्षीय कृष्ण कुमार की उसके बेटे विक्की ने अपने साथी बिंटू के साथ...

लालू यादव के बयान के बाद BJP नेताओं का करारा जवाब, कहा- अबकी बार ‘मोदी का परिवार’…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम मोदी को लेकर विपक्षी नेताओं की बयानबाजी तेज हो गई है। लेकिन बीजेपी के तमाम नेता...

उपद्रवियों से होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई

-क्लेम ट्रिब्यूनल करेगा नुकसान का आंकलन, राज्य सरकार ने कानून बनाने को प्रदान की मंजूरी देहरादून। उपद्रव फैलाने वालों पर शिकंजा कसने की दिशा में...

लोकसभा चुनाव आचार संहिता लगने से पूर्व धामी कैबिनेट की बैठक में हुए अहम फैसले

देखें, कैबिनेट के निर्णय सार्वजनिक सम्पत्ति के नुकसान की क्षतिपूर्ति के लिए क्लेम ट्रिब्यूनल के गठन पर लगी मुहर दशमेतर छात्रवृत्ति योजना में मिलने वाली छात्रवृत्ति...

गूगल ने हटाए गए सभी भारतीय एप को प्ले स्टोर पर किया बहाल

नई दिल्ली। गूगल ने भारी आलोचना के बाद प्ले स्टोर से हटाए गए सभी एप को वापस बहाल कर दिया है। सूत्रों ने पुष्टि...

अनुसूचित जाति के डेस्कॉलर एवं हॉस्टलर छात्रों के लिए नयी छात्रवृत्ति दरें तय

देखें, अनुसूचित जाति दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना के तहत नवीन छात्रवृत्ति की दर निर्धारित देहरादून। समाज कल्याण विभाग के अन्तर्गत भारत सरकार द्वारा संचालित अनुसूचित जाति...

हड्डियों में भर दे जान, आंखों के लिए वरदान से कम नहीं हरी मिर्च, जानें फायदे

स्पाइसी खाना हम चटकारे मार-मारकर खाते हैं. इन्हें स्वादिष्ट और तीखा बनाने का काम हरी मिर्च का होता है. हरी मिर्च भारत में बड़े...

एक बार फिर चारों ओर से बर्फ में ढकी औली और चकराता की वादियां 

चमोली। उत्तराखंड में मौसम ने फिर करवट बदली है। चमोली जनपद में लगातार तीसरे दिन भी मूसलाधार बारिश से ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जमकर...