मनोरंजन

650 से बढ़ाकर 2000 स्क्रीन्स पर रिलीज की जाएगी द कश्मीर फाइल्स

[ad_1]

विवेक रंजन अग्निहोत्री की द कश्मीर फाइल्स को बॉक्स ऑफिस पर शानदार प्रतिक्रिया मिली है। लिमिटेड स्क्रीन्स में रिलीज होने के बावजूद फिल्म ने कमाई के मामले में कई कमर्शियल फिल्मों को पीछे छोड़ दिया है। फिल्म ऐसे मुद्दे पर बनी है, जिससे हर किसी की भावनाएं जुड़ी हुई हैं। बीते शुक्रवार को यानी 11 मार्च को फिल्म को 650 स्क्रीन्स पर रिलीज किया गया था। अब इसे 2000 स्क्रीन्स पर रिलीज किया जाएगा।

रिपोर्ट के मुताबिक, द कश्मीर फाइल्स को मिली शानदार प्रतिक्रिया के बाद थिएटर्स के मालिक और एग्जीब्यूटर्स इसे 650 से बढ़ाकर 2000 स्क्रीन्स पर रिलीज करेंगे। फिल्म के शोज को बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है, ताकि अधिक से अधिक कमाई की जा सके। खबरों की मानें तो कुछ लोकेशंस पर फिल्म के शोज सुबह 6.30 बजे से शुरू हो रहे हैं। इससे फिल्म के बिजनेस पर सकारात्मक असर पड़ेगा। फिल्म का निर्देशन विवेक अग्निहोत्री ने किया है।
ऐसा नहीं है कि द कश्मीर फाइल्स को कोई टक्कर नहीं मिल रही है। फिल्म को राधे श्याम से प्रतिस्पर्धा करनी पड़ रही है। राधे श्याम भी 11 मार्च को रिलीज हुई है और इसने दो दिनों में 100 करोड़ रुपये के क्लब में एंट्री कर ली है। द कश्मीर फाइल्स ने ओपनिंग डे को 3.55 करोड़ रुपये कमाए। दूसरे दिन फिल्म ने 8.50 करोड़ बटोर लिए हैं। फिल्म ने दो दिनों में भारत में 12 करोड़ रुपये कमाए।

फिल्म को मिले अपार समर्थन का ही परिणाम है कि गुजरात सरकार ने अपने राज्य में द कश्मीर फाइल्स को टैक्स फ्री कर दिया है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने ट्विटर पर फिल्म को टैक्स फ्री करने की घोषणा की। इससे पहले हरियाणा में इस फिल्म को टैक्स फ्री कर दिया गया था। इतना ही नहीं, अब तो यह फिल्म मध्य प्रदेश में भी टैक्स फ्री हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद इस संबंध में जानकारी दी है।
इंटरनेट मूवी डेटाबेस (आईएमडीबी) पर भी द कश्मीर फाइल्स ने नया कीर्तिमान बनाया है। इस फिल्म को आईएमडीबी पर दस में से दस रेटिंग्स मिले हैं, जोकि एक रिकॉर्ड है। आज तक कोई भी भारतीय फिल्म यह उपलब्धि हासिल नहीं कर पाई है। खबर लिखते वक्त इस फिल्म की रेटिंग्स आईएमडीबी पर 9.9 है। कुल 76 हजार से अधिक लोगों ने फिल्म को रेटिंग्स दिए हैं। इसे एक बड़ी उपलब्धि माना जाएगा।

फिल्म की कहानी सच्ची घटना को केंद्र में रखकर बुनी गई है, जिसमें कश्मीरी पंडितों की पीड़ा और दर्द को फिल्माया गया है। 1990 के कश्मीरी पंडि़तों की जो स्थिति थी, उसको पर्दे पर उतारने की कोशिश की गई है। अनुपम खेर ने फिल्म में पुष्कर नाथ पंडित का किरदार निभाया है, जो पेशे से प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है। इसमें मिथुन चक्रवर्ती, दर्शन कुमार, पल्लवी जोशी और चिन्मय मंडलेकर दिखे हैं। इसका निर्माण जी स्टूडियोज ने किया है।
द कश्मीर फाइल्स पहली फिल्म नहीं है, जिसमें कश्मीरी पंडितों के दर्द को उकेरा गया है। इससे पहले विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म शिकारा में भी कश्मीरी पंडितों के पलयान की कहानी दिखाई गई थी।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk